ट्रंप ने की हिंदुओं की जमकर तारीफ, कहा की …

हिन्दुओं में है नेतृत्व करने की छमता इसलिए अब हिन्दू करेंगे दुनिया की अगुवाई: ट्रंप

डोनाल्‍ड ट्रंप ने अमेरिका में बसे भारतीय हिंदुओं की जमकर तारीफ करते हुए कहा हैै कि उनका अमेरिका के विकास में योगदान अतुलनीय है।नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप हिंदू समुदाय की तारीफ की है। उन्होंने कहा है कि हिंदू समुदाय ने विश्व संस्कृति और अमेरिकी संस्कृति में शानदार योगदान दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि वो अगले महीने न्यूजर्सी में होने वाले भारतीय-अमेरिकन इवेंट को संबोधित करेंगे।
अपने बयान में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि हम हिंदू समुदाय के योगदान का जश्न मनाना चाहते हैं। इस समुदाय ने कड़ी मेहनत से अमेरिकी विदेशी पॅालिसी को काफी मजबूत किया है। इस दौरान उन्होंने 24 सेकेंड का एक वीडियो मैसेज भी जारी किया और 15 अक्टूबर को होने वाले ‘अतुल्य’ समारोह में भारतीय-अमेरिकी को शामिल होने के लिए आमंत्रित किया।
इस वीडियो मैसेज में उन्होंंने कहा है कि वह न्यू जर्सी के पीएनसी आर्ट्स सेंटर में होने वाली रिपब्लिकन हिंदु कॉलिशन रैली में आमंत्रित करते हुए खुद को काफी गौरवांवित महसूस कर रहे हैं। यह बेहद खास शाम होगी क्योंकि वह हजारों हिंदुओं को संबोधित करेंगे और अमेरिका को और मजबूत और खुशहाल बनाएंगे।
ट्रंप ने कहा कि पूरे दिन भर के इस समारोह में बॉलीवुड के जाने-माने एक्टर्स, डांसर्स और सिंगर शामिल होंगे। इसके अलाव हिंदू आध्यात्म गुरु भी इस समारोह में शामिल होंगे। यह समारोह उन सभी पीडि़तों को राहत देगी जो इस्लामिक आतंक से पीडि़त हैं। उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि इस समारोह में मेरे मित्र और रिपब्लिकन हिंदू कैलेटन के सस्थापक और चेयरमैन भी इस सामरोह में शामिल हों।
ट्रंप की टीम में तीन भारतीय-अमेरिकी शामिल
ट्रंप ने तीन भारतीय-अमेरिकियों को एशिया प्रशांत अमेरिकी परामर्श समिति में नियुक्त किया है। ट्रंप की प्रचार मुहिम ने रविवार को घोषणा की कि 30 सदस्यीय इस समिति में वर्जीनिया के भारतीय अमेरिकी पुनीत अहलूवालिया, कैलिफोर्निया के केवी कुमार और इलिनोइस के शलभ कुमार शामिल हैं। शलभ कुमार रिपब्लिकन हिंदू कोएलिशन के संस्थापक हैं। पुनीत अहलूवालिया वर्जीनिया की एशियन-अमेरिकन एंड पैसिफिक आईलैंडर (एएपीआई) एडवाइजरी काउंसिल के सदस्य हैं जबकि केवी कुमार विश्व बैंक में काम कर चुके हैं।

Source

Comments

comments