बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने बताई जेएनयू की हकीकत, बौखलाए वामपंथी नेता

देश की राजधानी में स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति एम जगदीश कुमार जेएनयू कैंपस के अंदर सेना का एक टैंक रखना चाहते हैं। दरअसल, रविवार को करगिल विजय दिवस के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में कुलपति एम जगदीश कुमार ने केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान और जनरल वीके सिंह से गुजारिश की कि वे यूनिवर्सिटी को सेना का एक टैंक दिलवाने में मदद करें। उनके मुताबिक टैंक को कैंपस में एक जगह रखा जाएगा जो छात्रों को सेना के बलिदान की याद दिलाता रहे।

परिसर में कारगिल विजय दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए वीसी जगदीश कुमार ने बताया कि कैम्पस में टैंक रखवाना का ख्याल उन्हें पहली बार 9 फरवरी, 2016 को कुछ छात्रों द्वारा भारत विरोधी नारे लगने के बाद आया था। इन छात्रों पर पुलिस ने राजद्रोह का मुकदमा दायर किया था। जेएनयू में कारगिल दिवस पर आयोजित ये अपनी तरह का पहला कार्यक्रम था।

इस मामले पर बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि मैं जेएनयू के वीसी के इस सुझाव को झुक कर सलाम करता हूं। संबित ने ये भी कहा कि जब सीमा पर कोई भारतीय जवान मरता है तो जेएनयू में कुछ लोग जश्न मनाते हैं।

संबित पात्रा ने इस कार्यक्रम में कहा कि जब भी देश में कोई जवान नक्सली हमले में या फिर सीमा पर मरता है तो जेएनयू कैंपस के अंदर महोत्सव मनाया जाता है। बीजेपी प्रवक्ता ने बकायदा तारीखों के साथ शो में बताया कि कब और कैसे कैंपस में जवानों की मौत पर जश्न मनाया गया। पात्रा ने जेएनयू के वीसी को इस बात पर धन्यवाद भी कहा कि पहली बार कैंपस के अंदर कारगिल विजय दिवस मनाया गया। संबित पात्रा ने ये बातें हिंदी मीडिया चैनल पर आयोजित एक टीवी डिबेट के दौरान कही।

Comments

comments