बड़ी खबर: RBI ने 2000 के नोट छापने कर दिए है बंद, क्योंकि…

भारतीय रिजर्व बैंक ने 2000 के नोटों की छपाई पर लगाई रोक 

मोदी सरकार ने कालेधन और भ्रष्टाचार को लेकर पिछले साल नोटबंदी का अहम फैसला लिया था | मोदी सरकार के इस फैसले से देश में चल रहे 500 और 1000 के पुराने नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया था | इस फैसले के बाद भारतीय रिजर्व बैंक ने पिछले साल ही नवंबर में 500 और 2000 के नए नोटों को जारी किया था | अब इसको लेकर एक नई खबर सामने आ रही है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने 2000 के नोटों की छपाई पर अभी फिलहाल रोक लगा दी है | लाइव मिंट की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय रिजर्व बैंक इस वित्त वर्ष में अब 2000 के नए नोट नहीं लाएगा |

भारतीय रिजर्व बैंक 200 के नोट जारी करने की तैयारी में 

इसी के साथ अब भारतीय रिजर्व बैंक 200 के नोट जारी करने की तैयारी में है | केन्द्रीय बैंक के अधिकारियों ने बताया कि भारतीय रिजर्व बैंक ने 200 रुपए के नोटों की छपाई करने की प्रक्रिया को तेज कर दिया है | इस साल के जून के बाद इन नोटों को जारी किया जा सकता है | भारतीय रिजर्व बैंक ने पिछले महीने हुई एक बैठक में 200 के नोटों को लागू करने का फैसला लिया था | रिजर्व बैंक ने इससे पहले पिछले महीने ही देश के 5 बड़े शहरों में 10 रुपए के प्लास्टिक के नोटों का ट्रायल शुरू किया है | इस ट्रायल की सफलता के बाद अब अन्य नोटों को भी प्लास्टिक करंसी के रूप में जारी किया जा सकता है |

RBI ने नकारी 1000 के नए नोट की बात 

अगर बाजार में 200 रुपए का नया नोट आता है तो यह हाल के दिनों में 2000 रुपए के नोटों के बाद जारी की जाने वाली दूसरी नई करंसी होगी | अभी कुछ दिनों पहले समाचारों में 1000 हजार के नए नोटों की बात भी सामने आई थी | इस खबर में बताया गया कि अब नए फीचर्स के साथ 1000 का नया नोट बाजार में आने वाला है, लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक ने इन खबरों को नकार दिया |

पिछले कुछ दिनों से ATM में 2000 रुपए के नोटों की कमी भी देखी जा रही है | मिली जानकारी के अनुसार रिजर्व बैंक ने पिछले कुछ हफ़्तों से बैंकों को 2000 रुपए के नोटों को देना कम कर दिया है | इसी वजह से बैंक अब ATM में 2000 के नोटों को कम भर रही है | इससे तो यही लग रहा है कि ATM से 2000 के नोटों की जगह ख़त्म की जा रही है | इसी बात को देखकर लगता है कि रिजर्व बैंक जल्द ही 200 रुपए के नोट जारी कर सकता है |

मोदी सरकार ने पिछले साल 8 सितम्बर को 500 और 1000 के नोट को प्रचलन से बाहर करने का घोषणा की थी |पीएम मोदी ने घोषणा की थी कि 30 दिसम्बर 2016 तक बैंकों में पुराने नोट जमा कर सकते हैं | मोदी की इस घोषणा के बाद रातों रात करीब 18 लाख करोड़ रुपए चलन से बाहर हो गये थे | इसके बाद लोगों को कैश की काफी दिक्कत हुई थी फिर भी लोगों ने मोदी सरकार के इस फैसले को अच्छा कदम बताया था | नोटबंदी के बाद कई बैंकों में भी लेन देन को लेकर गड़बड़ी की खबरें आयीं थी | इसमें नॉएडा, दिल्ली, और देहरादून के साथ साथ अन्य जगहों पर भी छापेमारी की गई थी |

नोटबंदी की छापेमारी में नॉएडा में एक्सिस बैंक की जाँच से भी 20 फर्जी खातों का पता चला था | इन फर्जी खातों में नोटबंदी के बाद लगभग 60 करोड़ रुपए जमा कराये गए थे लेकिन आयकर विभाग ने इसकी जांच कर फर्जी खाताधारकों के खिलाफ कार्यवाही की थी |नोटबंदी के बाद आयकर विभाग ने एक ज्वैलर्स को भी पकड़ा जिसने 600 करोड़ से भी ज्यादा का सोना बेचा था | मोदी सरकार के इस फैसले के बाद कालाधन रखने वालों की सामत आ गई थी |

Comments

comments