बीजेपी में शामिल हुए 25 मुस्लिम परिवारों को मस्जिद में घुसने से रोका गया

त्रिपुरा की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया सवालों के घेरे में आ गई हैं। पार्टी के सदस्यों ने करीब 25 परिवारों के 200 मुस्लिम लोगों को मस्जिद में प्रवेश करने पर बैन कर दिया है। इन मुस्लिम परिवारों के लोगों का गुनाह सिर्फ इतना है कि इन्होंने मार्क्सवादी पार्टी को छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया था।

बीजेपी जॉइन करने वलोम सदस्यों को लगातार धमकियां मिल रही हैं कि कि अगर वे भारतीय जनता पार्टी को छोड़कर वापस मार्क्सवादी पार्टी में शामिल नहीं हुए तो उनका मुस्लिम समाज से बहिष्कार कर दिया जाएगा। इनपर वापस मार्क्सवादी पार्टी में शामिल होने को लेकर दवाब बनाया जा रहा है।

बता दें कि ये मामला त्रिपुरा के शांतिबाजार इलाके का है। जहां के 25 परिवारों के 200 सदस्यों ने मार्क्सवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली। इन परिवारों को न सिर्फ मस्जिद में जाने से रोक लगा दी बल्कि इन लोगों को मनरेगा में काम करने से भी बैन कर दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शांति बाजार के इन परिवारों को उसी समय भाजपा में शामिल होने से रोका गया था जब ये मार्क्सवादी को छोड़ रहे थे। लेकिन ये लोग नहीं माने और इन्होंने बीजेपी की सदस्यता को ग्रहण कर लिया।

गौरतलब है कि ईद से पहले इस घटना से पूरे क्षेत्र में तनाव का माहौल है। हालांकि प्रशासन ने इस बाबत बताया कि उन्हें भी इस तरह की खबरें मिली हैं। लेकिन अभी तक इस पूरे मामले को लेकर किसी संपर्क नहीं किया है और न ही कोई शिकायत उन्हें मिली है।

दक्षिण त्रिपुरा के क्षेत्राधिकारी सीके जमाटया का कहना है कि धार्मिक मामले में किसी को भी हस्ताक्षेप करने का अधिकार नहीं है। लोगों के मौलिक अधिकारों की रक्षा के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा। इसी बीच भाजपा के अलपसंख्यक मोर्चा अध्यक्ष मोहम्मद जसीम उद्दीन ने कहा कि खबर की जानकारी पुलिस अधीक्षक को दे दी गई है।

Source

Comments

comments