मनमोहन सिंह V/S नरेन्द्र मोदी: ये फर्क देखकर आपको…

आप ऐसे बहुत कम नेताओं को देखेंगे जो ज़मीनी स्तर पर रहते हैं और ईमानदारी से देश की तरक्की के लिए काम करते हैंl पीएम मोदी ऐसे ही एक नेता हैंl उनके नेतृत्व में भारत लगातार बुलंदियों को छू रहा हैl हमने हमेशा देखा है कि पीएम मोदी सिर्फ दूसरो को सीख नहीं देते, वे हर चीज़ पर पहले खुद अमल करते हैंl लगभग सभी नेता वीआईपी कल्चर का फ़ायदा उठाते हैं पर पीएम मोदी हमेशा वीआइपी कल्चर वगैरा से बहुत दूर रहते हैं और सादेपन में विश्वास रखते हैंl

और आज फिर एक बार पीएम मोदी के सादेपन का उदाहरण देखने मिलाl इंटरनेट पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पीएम मोदी की लाल किले पर भाषण देते हुए तस्वीर वायरल हो रही है, लेकिन इस तस्वीर में बहुत बड़ा अंतर हैl

आप दोनों प्रधानमंत्रियो की तस्वीरों में ये अंतर पायेंगे कि मनमोहन सिंह बुलेट-प्रूफ ग्लास रूफ के अंदर भाषण देते थेl लेकिन पीएम मोदी बिना किसी डर के सच्ची देश्भाक्ती का उदाहरण पेश करते हुए खुल्ले में, और बिना किसी ग्लास-रूफ के भाषण देते आ रहे हैंl

ये बेहद बड़ी बात है, और उससे भी बड़ा है ये अंतरl हम बहुत खबरें सुनते हैं कैसे सरकारी पैसे का गलत इस्तेमाल किया जाता है, कैसे करोड़ो रुपयों के घोटाले किये जाते हैं, हवाला कारोबार, भरष्टाचार को इसी सरकारी पैसे से अंजाम दिया जाता हैl और एक पीएम मोदी हैं और उनकी सरकार जिनका अभी तक कोई घोटाला या हेरा-फेरी सामने आना तो दूर, बल्कि इनकी तरफ से इन्हें खत्म करने के प्रयत्न ही देखने मिले हैंl

इससे पहले भी पीएम मोदी बेहतर प्रधानमंत्री साबित हो चूके हैंl कुछ समय पहले एक डाटा सामने आया था जिससे ये साबित हुआ था कि मनमोहन सिंह के मुकाबले पीएम मोदी की विदेश यात्राओं का खर्चा बहुत बहुत कम रहा हैl हो भी क्यों न! पीएम मोदी सरकारी पैसों का कभी गलत इस्तेमाल जो नहीं करते!

पिछले महीने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में मोदी ने देशवासियों की सलाह पर इस बार स्वतंत्रता दिवस पर अपना संबोधन ज्यादा लंबा न करते हुये इसे संक्षिप्त रखने की बात कही थी। रेडियो पर प्रसारित ‘मन की बात’ कार्यक्रम में मोदी ने कहा था कि उन्हें लोगों से मिल रहे पत्रों में कहा गया है कि स्वतंत्रता दिवस पर दिया जाने वाला उनका संबोधन ‘थोड़ा ज्यादा ही बड़ा’ हो जाता है। इसके मद्देनजर उन्होंने इस साल छोटा भाषण देने का वादा किया था।

source

अपने 57 मिनट के भाषण में पीएम मोदी ने गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सिजन की कमी से हुई बच्चों की मौत पर शोक प्रकट किया। इसके बाद पीएम ने देश में भीड़ द्वारा हमले के मामलों के बढ़ने की भी निंदा की। उन्होंने कहा कि अपनी आस्था के नाम पर हिंसा करने जैसी घटनाएं अस्वीकार्य हैं।

Comments

comments