You are here
राजनीति 

हिंदुस्तान में नफरत फैलाने पर मुकेश को कुवैत ने नौकरी से निकाला, गोधरा करने की दे रहा था धमकी

हिंदुस्तान में नफरत के बीज सिर्फ देश नहीं बल्कि दूर-सुदूर बैठे लोग भी पैदा कर रहे हैं। वाट्सअप व फेसबुक ने लोगों को नफरत और हिंसा फैलाने के साधन मुहैय्या करा दिए हैं।

आज कुवैत की सिक्योरिटी कंपनी अल-लेवा ने मुकेश कुमार नाम के व्यक्ति को बाहर का रास्ता दिखा दिया। मुकेश कुमार पर हिंदुस्तान में नफरत औऱ हिंसा फैलाने का आरोप लगा है।

दरअसल इनदिनों बंगाल सांप्रदायिक हिंसा की चपेट में है। 24 परगना जिले में आपत्तिजनक पोस्ट की वजह से हिंदू-मुस्लिम का सदियों पुराना भाईचारा खतरे में पड़ गया है। एकतरफ इस भाईचारें में आग लगी है दूसरी तरफ आग में घी डालने का काम तमाम संगठनों की ओर से किया जा रहा है।

इसी आग में मुकेश कुमार ने नफरत फैलाने की कोशिश की। मुकेश ने फेसबुक पर एक कमेंट किया। जिसमें उसने लिखा कि, जितने फुटपाथ पर कॉस्मेटिक सामान बेचने वाले मुसलमान लोग हैं उनकी दुकान से सामान खरीदना बंद कर दिया जाए। मुकेश कुमार ने मुल्लों शब्द का इस्तेमाल करते हुए बंगाल में दोबारा 2002 का गोधरा दोहराने की बात भी लिखी।

मुकेश के कमेंट के बाद युनूस एसके ने अल-लेवा कंपनी को इस नफरती कमेंट का स्क्रीनशॉट भेज दिया। जिसके बाद कंपनी ने मुकेश कुमार को तलब किया। जांच के बाद मुकेश कुमार को कंपनी से निकालने का फैसला किया।

इससे यह साबित होता है कि, नफरत और हिंसा फैलाने वाले लोग देश-विदेश में बैठकर सोशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं। आपको बता दें कि, बंगाल हिंसा भी सोशल मीडिया पर एक धर्म के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट शेयर कर देने के बाद शुरू हुई।

Source

Comments

comments

Related posts