कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, सोनिया-राहुल गाँधी की उड़ गयी रातों की नींद

कांग्रेस पार्टी इस समय अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है. मोदी लहर के सामने आधे से ज्यादा प्रदेशों में कांग्रेस के सफाई के बाद अब कांग्रेस के सामने बड़ा संकट आ आगया है. कहा  तो ऐसा जा रहा है कि विपक्षी पार्टियों के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह किसी भयावह संकट से कम नही है. मामला शुरू हुआ बिहार से, बिहार में महागठबंधन तोड़ कर नीतीश कुमार के साथ मिलकर सरकार बनाने पर बीजेपी के इस चाल से विरोधी घबरा गये है. इसके बाद गुजरात से कांग्रेस के लिए जो खबर आयी वो किसी सदमे से कम नही थी. विधायकों का कांग्रेस पार्टी से टूटकर बीजेपी में जाना कांग्रेस के भविष्य को अन्धकार में धकेल रही है.

दरअसल कांग्रेस पार्टी के मुखिया सोनिया गांधी के सलाहकार माने जाने वाले अहमद पटेल गुजरात से राज्यसभा का चुनाव लड़ रहे है. इसी के साथ अमित शाह और स्मृति इरानी भी राज्यसभा का चुनाव लड़ रही है. लेकिन गुजरात में राज्यसभा चुनाव से अहम् पहले कांग्रेस विधायको का पार्टी से टूटना और बीजेपी में शामिल हो जाना किसी बड़े सदमें से कम नही है क्योंकि विधायको के टूट जाने से कांग्रेस के राज्यसभा चुनाव के उम्मीद्वार अहमद पटेल चुनाव हार सकते है और कांग्रेस को बड़ा झटका लग सकता है. इधर कांग्रेस छोड़कर आये विधायक को बीजेपी राज्यसभा का उम्मीद्वार बनाकर कांग्रेस पार्टी में बड़ी सेंधमारी के संकेत दे चुकी है.

कांग्रेस पार्टी से टूटकर आये 6 विधायको में से एक विधायक को राज्यसभा उम्मीदवार बनाये जाने से कांग्रेस के और भी विधायको के टूटकर बीजेपी में शामिल होने की आशंका को देखते हुए  कांग्रेस ने गुजरात के सभी विधायकों को बंगलुरु के एक रिसार्ट में शिफ्ट कर दिया है और रिसार्ट को एक किले में तब्दील कर दिया गया है. जिससे विधायकों से बीजेपी का कोई भी नेता सम्पर्क न कर पाए. जिस समय कांग्रेस पार्टी के विधायक टूटकर बीजेपी में आये उस समय अमित शाह गुजरात में ही थे ऐसे में यही अनुमान लगाया जा रहा है कि इस सब के पीछे बीजेपी में चाणक्य की भूमिका निभाने वाले अमित शाह का हाथ हो सकता है. 10 और विधायकों के टूटने के डर से कांग्रेस ने अपने सभी विधायको को नजरबंद कर दिया है.

इधर गुजरात में अमित शाह की मौजूदगी में कांग्रेस के विधायक टूटकर बीजेपी में शामिल होने के बाद बीजेपी अध्यक्ष उत्तर प्रदेश पहुंचे और उधर सपा और बसपा के लिए बुरी खबर आ गयी. अमित शाह के यूपी पहुँचने के बाद दोनों पार्टी के नेता सपा और बसपा छोड़कर बीजेपी में शामिल हो जाने से दोनों पार्टियों समेत कांग्रेस के लिए भी एक बुरी खबर है. जहां एक तरफ विधायकों के टूटने से कांग्रेस पार्टी सदमें में है वही सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव का कहना कि जहां जिसे जाना हो चले जाएँ.

लेकिन इस घटनाक्रम के बाद कांग्रेस पार्टी के लिए एक संकट जरूर खड़ा हो गया है. जिससे सबसे ज्यादा नुकसान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सोनिया के सलाहकार को होने की संभावना है. कांग्रेस अहमद पटेल के चुनाव हारने की संभावना से डरी हुई है. पार्टी से टूटते विधयाको को देखकर कांग्रेस के सभी वरिष्ठ नेताओं के साथ सोनिया गांधी और राहुल गांधी की रातों की नींद उड़ गयी है. इन सबके पीछे बीजेपी के चाणक्य की भूमिका निभाने वाले राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की चाल बताई जा रही है.

Comments

comments