You are here
अजब गजब 

मां लक्ष्मी के ये 108 नामों का जाप आपके सारे दुखों और आर्थिक तंगी को दूर कर सकते है

शास्‍त्रों के अनुसार अगर शुक्रवार दिन मां लक्ष्मी की पूजा को पूरे विधि-विधान से किया जाए तो मनुष्‍य को सौभाग्‍य की प्राप्ति होती है । मां लक्ष्मी के पूजन का शुभ दिन शुक्रवार को माना गया है और इस मां की पूजा में कई मंत्रों का जाप होता है। मां को आरती के साथ ही चालीसा का पाठ भी बहुत प्रिय है। इसके लिए मां के पूजन के बाद कमलगट्टे की माला से मां के 108 नामों का जान करना आपके सारे दुखों को दूर कर सकता है।
1. प्रकृति- प्रकृति 2. विकृति- दोरूपी प्रकृति 3. विद्या- बुद्धिमत्ता 4. सर्वभूतहितप्रदा- ऐसा व्यक्ति, जो संसार के सारे सुख दे सके 5. श्रद्धा- जिसकी पूजा होती है 6. विभूति- धन की देवी 7. सुरभि स्वर्गीय- देवी, 8. परमात्मिका- सर्वव्यापी देवी 9. वाची- जिसके पास अमृत भाषण की तरह हो 10. पद्मालया- जो कमल पर रहती है.

11. पद्मा- कमल 12. शुचि- पवित्रता की देवी 13. स्वाहा- शुभ 14. स्वधा- ऐसी अव्यक्ति जो अशुभता को दूर करे 15. सुधा- अमृत की देवी, धन्या- आभार का अवतार, हिरण्मयीं- जिसकी दिखावट गोल्डन है 18. लक्ष्मी- धन और समृद्धि की देवी 19. नित्यपुष्ट- जिससे दिन पर दिन शक्ति मिलती है 20. विभा- जिसका चेहरा दीप्तिमान है.

21. अदिति- जिसकी चमक सूरज की तरह है 22. दीत्य- जो प्रार्थना का जवाब देता है 23. दीप्ता- लौ की तरह 24. वसुधा- पृथ्वी की देवी 25. वसुधारिणी- पृथ्वी की रक्षक 27. कांता- भगवान विष्णु की पत्नी 28. कामाक्षी- आकर्षक आंख वाली देवी 29. कमलसंभवा- जो कमल में से उपस्थित होती है 30. अनुग्रहप्रदा- जो शुभकामनाओं का आशीर्वाद देती है,

31. बुद्धि- बुद्धि की देवी 32. अनघा- निष्पाप या शुद्ध की देवी 33. हरिवल्लभी- भगवान विष्णु की पत्नी 34. अशोक- दु:ख को दूर करने वाली 35. अमृता- अमृत की देवी 36. दीपा- दितिमान दिखने वाली 37. लोक शोक विनाशिनी- सांसारिक मुसीबतों को निगलने वाली, 38. धर्मनिलया- अनंत कानून स्थापित करने वाली 39. करुणा- अनुकंपा देवी 40. लोकमट्री- ब्रह्माण्ड की देवी

41. पद्मप्रिया- कमल की प्रेमी 42. पद्महस्ता- जिसके हाथ कमल की तरह हैं 43. पद्माक्ष्य- जिसकी आंख कमल के जैसी है 44. पद्मसुंदरी- कमल की तरह सुंदर 45. पद्मोद्भवा- कमल से उपस्थित होने वाली 46. पद्ममुखी- कमल के दीप्तिमान जैसी देवी 47. पद्मनाभप्रिया- पद्मनाभ की प्रेमिका- भगवान विष्णु 48. रमा- भगवान विष्णु को खुश करने वाले 49. पद्ममालाधरा- कमल की माला पहनने वाली 50. देवी- देवी.

51. पद्मिनी- कमल की तरह 52. पद्मगंधिनी- कमल की तरह खुशबू है जिसकी 53. पुण्यगंधा- दिव्य सुगंधित देवी 54. सुप्रसन्ना- अनुकंपा देवी 55. प्रसादाभिमुखी- वरदान और इच्छाओं का अनुदान देने वाली 56. प्रभा- देवी जिसका दीप्तिमान सूरज की तरह हो 57. चन्द्र वंदना- जिसका दीप्तिमान चन्द्र की तरह हो, 58. चंदा- चन्द्र की तरह शांत 59. चन्द्र सहोदरी- चन्द्रमा की बहन 60. चतुर्भुजा- चार सशस्त्र देवी 61, चन्द्ररूपा- चन्द्रमा की तरह सुंदर 62. इंदिरा- सूर्य की तरह चमक 63. इंदुशीतला- चांद की तरह शुद्ध 64. अह्लाद जननी- खुशी देने वाली 65. पुष्टि- स्वास्थ्य की देवी.

66. शिव- शुभ देवी 67. शिवाकारी- शुभ का अवतार 68. सत्या- सच्चाई 69. विमला- शुद्ध 70. विश्वजननी- ब्रह्माण्ड की देवी 71. पुष्टि- धन का स्वामी, 72. दरिद्रियनशिनी- गरीबी को निकालने वाली 73. प्रीता पुष्करिणी- देवी जिसकी आंखें सुखदायक है 74. शांता- शांतिपूर्ण देवी 75. शुक्लमालबारा- सफेद वस्त्र पहनने वाली 77. बिल्वनिलया- जो बिल्व पेड़ के नीचे रहता है 78. वरारोहा- देवी, जो इच्छाओं का दान देने वाली है 79. यशस्विनी- प्रसिद्धि और भाग्य की देवी, 80. वसुंधरा- धरती माता की बेटी.

81. उदरंगा- जिसका शरीर सुंदर है 82. हरिनी- हिरण की तरह है जो 83. हेमा मालिनी- जिसके पास स्वर्ण हार है 84. धनधान्यकी- स्वास्थ्य प्रदान करने वाली 85. सिद्धि- रक्षक 86. स्टरीनासौम्य- महिलाओं पर अच्छाई बरसाने वाली 87. शुभप्रभा- जो शुभता प्रदान करे, 88. नृपवेशवगाथानंदा- महलों में रहता है जो 89. वरलक्ष्मी- समृद्धि की दाता 90. वसुप्रदा- धन को प्रदान करने वाली 91. शुभा- शुभ देवी 92. हिरण्यप्राका- सोने में 93. समुद्रतनया- महासागर की बेटी 94. जया- विजय की देवी.

95. मंगला- सबसे शुभ, 96. देवी- देवता या देवी97. विष्णुवक्षः- जिसके सीने में भगवान विष्णु रहते हैं 98. विष्णुपत्नी- भगवान विष्णु की पत्नी 99. प्रसन्नाक्षी- जीवंत आंख वाले 100. नारायण समाश्रिता- जो भगवान नारायण के चरण में जाना चाहता है 101. दरिद्रिया ध्वंसिनी- गरीबी समाप्त करने वाली 102. डेवलष्मी- देवी, 103. सर्वपद्रवनिवर्णिनी- दु:ख दूर करने वाली 104. नवदुर्गा- दुर्गा के सभी नौ रूप 105. महाकाली- काली देवी का एक रूप 106. ब्रह्मा-विष्णु-शिवात्मिका- ब्रह्मा-विष्णु-शिव के रूप में देवी 107. त्रिकालज्ञानसंपन्ना- जिससे अतीत, वर्तमान और भविष्य के बारे में पता है 108. भुवनेश्वराय- ब्रह्माण्ड की देवी या देवता।

Comments

comments

Related posts