You are here
Editor's Choice 

यूपी में रोजगार के लिए सीएम योगी का सबसे बड़ा दांव

उत्तर प्रदेश को एक बार फिर उद्योग-धंधों और कारोबार के लिहाज से आगे बढ़ाने की कोशिश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहली बड़ी कामयाबी हासिल की है। दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग ने अपनी नोएडा यूनिट में करीब 5000 करोड़ रुपये के निवेश का एलान किया है। यूपी की नई सरकार के लिए इसे बड़ी कामयाबी माना जा रहा है क्योंकि सैमसंग इस निवेश को किसी दूसरे राज्य में ले जाने का मन बना चुकी थी। नए निवेश से सैमसंग यहां पर मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के तहत इलेक्ट्रॉनिक सामान और उसके कलपुर्जे बनाने का कारखाना डालेगी। इलेक्ट्रॉनिक मैनुफैक्चरिंग में सैमसंग का ये भारत में अब तक का सबसे बड़ा निवेश है। यूपी में बिजली और कानून-व्यवस्था जैसी दिक्कतों के कारण अक्सर ऐसी खबरें आती रही हैं कि सैमसंग यहां से अपना कारोबार समेटने की तैयारी में है। लेकिन योगी सरकार आने के बाद कई स्तरों की बातचीत के बाद सैमसंग का यूपी में ही निवेश करने के लिए मना लिया गया। खुद सीएम आदित्यनाथ इस मामले पर नज़र रखे हुए थे। माना जा रहा है कि बीजेपी की सरकार बनने के बाद सैमसंग जैसी कई मल्टीनेशनल और बड़ी देसी कंपनियां यूपी के शहरों में कारोबार शुरू कर सकती हैं।

यूपी में लगेंगे कारोबार-धंधे

1995 में सैमसंग ने नोएडा के सेक्टर 81 में अपना पहला मैनुफैक्चरिंग यूनिट शुरू किया था। यहां पर स्मार्टफोन, रेफ्रीजरेटर, एलसीडी टीवी और दूसरे कई हाईएंड इलेक्ट्रॉनिक सामान तैयार किए जाते हैं। लेकिन इसके बाद यूपी में कानून-व्यवस्था और बिजली की हालत में बदतरी आती गई। जिसका नतीजा यह हुआ कि सैमसंग ने कोई नया निवेश नहीं किया। सैमसंग यूनिट के उद्घाटन के मौके पर केंद्रीय आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि तीन साल पहले देश में इलेक्ट्रॉनिक इंडस्ट्री में इन्वेस्टमेंट 11 हजार करोड़ था, जो आज बढ़कर 1.53 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। देश की मोबाइल इंडस्ट्री में इस समय सैमसंग की हिस्सेदारी 10 फीसदी के करीब है जिसे बढ़ाकर 50 फीसदी करने का टारगेट रखा गया है।

हजारों की संख्या में नौकरियां

सैमसंग के इतने बड़े निवेश से कंपनी के नोएडा यूनिट में भारी संख्या में नई भर्तियों का अनुमान है। पूरी 4915 करोड़ की रकम 2017 से 2022 के बीच निवेश की जाएगी। इस दौरान हर साल 25 हजार करोड़ रुपये से अधिक कीमत वाले इलेक्ट्रॉनिक सामान का उत्पादन होगा। यूपी सरकार चाहती है कि इस यूनिट के जरिए स्थानीय इंजीनियरों और दूसरे स्किल्ड नौजवानों को ज्यादा से ज्यादा रोजगार मुहैया कराया जाए। इस बारे में भी कंपनी से बात की गई है। सैमसंग के निवेश में कामयाबी के बाद यूपी सरकार अब नोएडा, ग्रेटर नोएडा और पूरे यमुना एक्सप्रेसवे क्षेत्र को इलेक्ट्रॉनिक और मोबाइल मैनुफैक्चरिंग हब के तौर पर प्रोजेक्ट करने की तैयारी में है। इसके लिए आक्रामक रणनीति अपनाई जाएगी और दुनिया भर की कंपनियों को यहां पर अपने कारखाने लगाने के लिए आकर्षक स्कीमें दी जाएंगी।

Source

Comments

comments

Related posts