‘मैं शाकाहारी और मोदीभक्त हूं, लेकिन मैं बीफ खाऊंगा’

MakeMyTrip के को-फाउंडर केयूर जोशी ट्विटर पर धर के रगड़ दिए गए. ट्रोल आर्मी का ऐसा खौफ समाया है कि अब ट्वीट करने से पहले हजार बार सोचेंगे. उन्होंने ट्वीट किया था कि वो पीएम मोदी के पक्के वाले सपोर्टर हैं, फुल वेजीटेरियन हैं. लेकिन खाने की आजादी के लिए अब बीफ खाएंगे.

इसके बाद जो हुआ उसको देखकर फेसबुक वाले चाणक्य का कहना सही लगता है. चाणक्य ने फेसबुक पर लिखा है “दूसरे के अनुभवों से सीखो, स्वयं पर प्रयोग करने से आयु घटती है.” 2015 में इसी तरह आमिर खान फंस गए थे इंटॉलरेंस पर बोल कर. तब आमिर स्नैपडील का ऐड करते थे और #BoycottSanpdeal ट्रेंड कर गया था. लोग ऐप अनइंस्टाल करने लगे थे. वही हाल मेक माई ट्रिप के साथ हुआ. लोगों ने धड़ाधड़ ऐप डिलीट करना शुरू कर दिया. थोड़ी देर में #BoycottMakeMyTrip ट्रेंड करने लगा.

झांव झांव की शुरुआत

केयूर जोशी का ट्वीट तो ऊपर देख लिया. उसके कुछ देर बाद राइट विंग की आंख में जाकर उसमें लिखा शब्द बीफ फंस गया. एक भाई ने मेक माई ट्रिप को टैग करके ट्वीट किया कि “क्या ये आपके को-फाउंडर का हैंडल है?” और धमकाया कि अगर 6 घंटे तक जवाब नहीं आया तो इसे ‘हां’ माना जाएगा.

मेक माई ट्रिप की आंखों में ये धमकी देखकर आंसू आ गए. सॉरी आंसू आजकल अश्लील हो गया है. तो ये समझो कि कंपनी औकात में आ गई. सफाई आई कि “मिस्टर जोशी के व्यूज़ पर्सनल हैं, उनका हमसे लेना देना नहीं है. वो हमारे करेंट एम्प्लॉई नहीं हैं.”

मेक माई ट्रिप ने तो झुट्ठई पेल दी, लेकिन काम नहीं आई. सब सत्तू पानी लेकर चढ़ लिए. उधर से फिर जवाब आया “झुट्ठई नहीं चलेगी. वो आपके बोर्ड डायरेक्टर और एडवाइजर हैं.” फिर केयूर जोशी को अकल आई. समझ में आया कि बरैया की छत्ते में हाथ डाल दिया है. माफी वाफी मांगने लगे और ट्वीट डिलीट करके भाग लिए. उन्होंने लिखा कि वो भैंस के मांस की बात कर रहे थे, उसे काटना गैर कानूनी नहीं है. उसके बाद अपना हैंडल भी सोनू निगम की तरह डिलीट कर दिया.

असली खेल इसके बाद शुरू हुआ. लोग अपनी कैंसिल टिकट की फोटो और ऐप अनइंस्टाल करने की फोटो खींच के डालने लगे. कुछ ही घंटों में सारा गोबर गुड़ हो गया. मेक माई ट्रिप का मार्केट धांय से नीचे आ गया.

1.

2.

 

इनको बाबू साहब को समझना चाहिए कि ये धंधा कर रहे हैं अपना धंधा करें. पॉलिटिक्स बतियाएंगे तो हमारे यहां पेट से पॉलिटिक्स वाले पैदा होते हैं. धर के रगेदे जाएंगे तो होश ठिकाने आ जाएंगे. अगर बीफ का सपोर्ट करना ही है तो पहले बीजेपी जॉइन करके सरकार में मंत्री बनना पड़ेगा. देखिए किरन रिजिजू ऑन कैमरा बोल चुके हैं कि वो बीफ खाते हैं, उनका कोई पूंछ उखाड़ पाया क्या, मजे से मंत्री बने बैठे हैं.

Source

Comments

comments