बिहार में पंचायत ने सुनाई तालिबानी फरमान और काट दिया हाथ

बिहार

बिहार के सुपौल में पंचायत ने अपने फैसले में जारी किया तालिबानी फरामन और एक मामलू चोरी के लिए काट दिया सख्स का हाथ। घटना सुपौल जिला के वीरपुर इलके की है। जहां पंचायत ने कानून को अपने हाथ में लेकर तालिबानी फरमान के तहत इस अपराध को अंजाम दिया। इस घटना के बाद गांव में जमकर मारपीट हुई जिसमें कई लोग घायल हो गए।

क्या था पूरा मामला?
जानकारी के मुताबिक स्थानीय निवासी कयूम का फोन खराब हो गया। उसने पास के दुकानदार जरजिस को मोबाइल ठीक करने के लिए दिया। जरजिस ने कुछ देर के बाद मोबाइल ठीक कर के दे दिया। लेकिन कयूम फिर से उसके दुकान पर आ धमका और जरजिस पर आरोप लगाया कि उसने मंसूर आलम के साथ मिलकर उसके मोबाइल की बैट्री बदल ली। दोनों के बीच तकरार होने लगी। मामला इतना बढ़ गया कि बात पंचायत तक पहुंची। पहले तो पंचायत ने दोनों पक्षों में सुलह कराने का प्रयास किया फिर जब मामला नहीं संभल पाया तो पंचायत ने तालिबानी फरमान जारी करते हुए मंसूर आलम का हाथ काटने की सजा सुना दी।

पंचायत के फरमान जारी करते ही मंसूर आलम का हाथ काट दिया गया। बाद में इस मुद्दे को लेकर दोनों पक्षों में जमकर लड़ाई हुई। इस खूनी लड़ाई में 6 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। कुछ की हालत ज्याद खराब है। इस मामले में कुछ 26 लोग नामजद किए गए। पुलिस ने अब तक 6 लोगों को गिरफ्तार की है।

Comments

comments