You are here
Editor's Choice विश्व 

तानाशाह गद्दाफी के राज में मिलती थी ये फैसिलिटी

अपनी क्रूरता के चलते पूरी दुनिया में कुख्यात ली बियाके पूर्व शासक जनरल मुअम्मर गद्दाफी का 7 जून को जन्मदिन होता है. गद्दाफी ने लीबिया पर 40 साल से ज्यादा वक्त तक राज किया था. हालांकि अपनी राज में गद्दाफी ने भले ही कई बर्बरता की हो लेकिन उसने देश की जनता के लिए कई अच्छे काम भी किए.

कनाडा के सेन्टर फॉर रिसर्च ऑन ग्लोबलाइजेशन (ग्लोबल रिसर्च) की 2014 की रिपोर्ट के मुताबिक लीबिया में ‘घर’ मानव अधिकार के तहत आता था. गद्दाफी ने कसम खाई थी कि जब तक लीबिया के हर नागरिक को उसका खुद का घर नहीं मिलता, तब तक वह अपने माता-पिता के लिए भी घर नहीं बनवाएगा.

लीबिया में गद्दाफी शासन का अपना खुद का स्टेट बैंक. इसके जरिए वो आपने नागरिकों को दिए गए बैंक लोन पर ब्याज नहीं वसूलता था. साथ ही, लीबिया में तेल की बिक्री से आने वाली रकम का एक हिस्सा सीधे यहां के नागरिकों के बैंक खाते में जाता था.

गद्दाफी के शासनकाल के दौरान लीबिया में जनता को बिजली का बिल माफ़ रहता था. ये यहां के लोगों के बुनियादी अधिकारों में शामिल था. यहां जनता को बिजली का बिल जमा नहीं करना पड़ता था. इसका पूरा खर्च देश की सरकार उठाती थी.

लीबिया में शादी करने वाले हर जोड़े को गद्दाफी की तरफ से 32 लाख रुपए दिए जाते थे. यही नहीं, लीबिया में बच्चों की पैदाइश के वक्त भी महिला और उसके बच्चे को करीब सवा 3 लाख रुपए की रकम दी जाती थी.

लीबिया में गद्दाफी सरकार की ओर से लोगों के लिए फ्री पढ़ाई की व्यवस्था थी. देश में जरूरी एजुकेशन न मिलने पर स्टूडेंट्स को बाहर जाने की भी सुविधा थी. वहीं, विदेश में पढ़ाई पर आने वाला पूरा खर्च तो सरकार उठाती ही थी. इसके अलावा बाहर रहने के लिए महीने के खर्च के तौर पर डेढ़ लाख रुपए और कार अलाउंस अलग से दिया जाता था.

लीबिया में पढ़ाई के साथ-साथ सभी लोगों के लिए हेल्थ फैसिलिटी भी पूरी तरह से फ्री थीं. स्वास्थ्य सेवाओं पर आने वाला सारा खर्चा गद्दाफी सरकार खुद वहां करती थी. देश के बाहर भी इलाज कराने पर मेडिकल फैसिलिटी पर आने वाला पूरा खर्च सरकार ही उठाती थी.

गद्दाफी पर अपने सैकड़ों लोगों को कैद करने और कई को मौत की सजा देने का भी आरोप था. उनके शासन के दौरान यातनाएं दिए जाने और लोगों के लापता होने की खबरें आती रहती थीं.

Source

Comments

comments

Related posts