You are here
राजनीति 

कपिल मिश्रा के वो पांच कदम, जिन्होंने उन्हें बना दिया ‘आप’ का बड़ा दुश्मन

आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता, दिल्ली के पूर्व जल मंत्री कपिल मिश्रा के साथ बुधवार को दिल्ली विधानसभा में कथित तौर पर मारपीट हुई। यह कथित मारपीट आम आदमी पार्टी के विधायकों ने की। कपिल मिश्रा के अनुसार उनके साथ मारपीट उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के इशारे पर हुई। कभी मुख्यमंत्री केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के करीबी रहे कपिल मिश्रा आखिर क्यों ‘आप’ के लिए विलेन बन गए। उनकी ऐसी कौन सी ‘गलती’ है, जिसके कारण आम आदमी पार्टी के नेता और कार्यकर्ता उन्हें दुश्मन की नजर से देखने लगे हैं। आईए जानते हैं कपिल मिश्रा की ‘गलतियां’, जिनकी वजह से वे ‘आप’ के लिए दुश्मन हो गए।

1. केजरीवाल पर भ्रष्टाचार का आरोप

आम आदमी पार्टी का हर नेता और कार्यकर्ता दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इमानदारी की मूरत मानता है। कोई भी नेता या कार्यकर्ता यह मानने को तैयार ही नहीं है कि केजरीवाल भ्रष्टाचार में लिप्त हो सकते हैं। ऐसे में कपिल मिश्रा ने मुख्यमंत्री पर 2 करोड़ रुपये की रिश्वत लेने का आरोप जड़ दिया। कपिल के अनुसार आम आदमी पार्टी को ‘फर्जी’ कंपनियों ने चंदा दिया। हालांकि अरविंद कंपनी के बारे में कुछ भी जानकारी होने से इनकार करते हैं, लेकिन बता दें कि यह कंपनियां उनके ही साथ रहने वाले कुछ लोगों की हैं।

2. मुख्यमंत्री सहित ‘आप’ नेताओं के विदेश दौरों पर उंगली उठाना

कपिल मिश्रा जब तक मंत्री थे, तब तक उन्हें इस पार्टी में कोई कमी नजर नहीं आ रही थी। मंत्री पद से हटाए जाने के बाद उन्होंने पार्टी पर सवाल उठाने शुरू कर दिए, जिसके बाद उन्हें पार्टी से निकाल बाहर कर दिया गया। इसके बाद तो उन्होंने ‘आप’ के खिलाफ मोर्चा ही खोल दिया। उन्होंने ‘आप’ नेताओं के विदेश दौरों पर सवाल उठाए। उन्होंने सीथे मुख्यमंत्री केजरीवाल से पूछा कि उनके नेताओं के पास विदेश दौरे के लिए पैसे कहा से आए। कपिल ने कहा कि सरकार चलाने के लिए विदेश दौरे की जरूरत नहीं पड़ती।

3. ‘ईमानदार’ पार्टी पर हवाला कारोबार का आरोप

पूर्व भाजपा और कांग्रेस जैसी विपक्षी पार्टियां आम आदमी पार्टी पर तरह-तरह के आरोप लगाती रही हैं। लेकिन जैसी चोट कपिल मिश्रा ने की, वैसा कोई भी राजनीतिक दल या नेता नहीं कर पाया। कपिल मिश्रा ने मुख्यमंत्री केजरीवाल पर हवाला कनेक्शन का आरोप जड़ दिया। यही नहीं पार्टी के चंदे में गड़बड़ियों पर उठे सवाल को लेकर उन्होंने कारोबारी मुकेश शर्मा का वीडियो वायरल करने का भी आरोप ‘आप’ नेताओं पर लगाया। उन्होंने केजरीवाल पर इनकम टैक्स विभाग को गुमराह करने का भी आरोप लगाया।

4. ‘शीला’जीत पर टैंकर घोटाले में शीला दीक्षित को बचाने का आरोप

शीला दीक्षित को सीधे चुनाव में पटखनी देने के बाद केजरीवाल को लोग ‘शीला’जीत नाम से पुकारने लगे थे। जिस शीला दीक्षित सरकार के घोटालों के खिलाफ आवाज उठाकर ‘आप’ सत्ता में आयी थी, उसी शीला दीक्षित को टैंकर घोटाले में बचाने का आरोप भी कपिल मिश्रा ने मुख्यमंत्री केजरीवाल पर लगाया। यही नहीं उन्होंने घोटाले के संबंध में एसीबी के दफ्तर जाकर उन्हें सबूत भी सौंपे। कपिल ने आरोप लगाया कि केजरीवाल ने टैंकर घोटाले की जांच को प्रभावित करने की कोशिश की। यही नहीं उन्होंने ‘आप’ नेता आशीश तलवार और विभव पटेल पर टैंकर घोटाले की फाइल दबाने का भी आरोप लगाया।

5. सत्येंद्र जैन के खिलाफ खोला मोर्चा

कपिल मिश्रा ने दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री और केजरीवाल के करीबी सत्येंद्र जैन पर मुख्यमंत्री को दो करोड़ रुपये की घूस देने का आरोप लगाया। कपिल के अनुसार सत्येंद्र जैन ने उनकी आंखों के सामने केजरीवाल को दो करोड़ रुपये दिए थे। यही नहीं कपिल ने ‘मोहल्ला क्लीनिक’ योजना में सत्येंद्र जैन की बेटी की नियुक्ति पर भी सवालिया निशान खड़े किए।

Source

Comments

comments

Related posts