अमेरिका में राहुल गांधी ने अपनी ही पार्टी की खोल दी पोल, कांग्रसियों को जवाब देते नही बन रहा है!

कांग्रेस पार्टी के युवराज राहुल गांधी इस समय अमेरिका के दौरे पर है. राहुल गांधी ने आज युनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में युवा छात्रों से संवाद करते हुए कई बातें कही. कुछ बातें नरेन्द्र मोदी सरकार हमला बोलने के लिए तो कुछ बातें अपनी पार्टी के अस्तित्व के बारे में कहीं. जैसा कि आप सभी जानते है कि राहुल गांधी के एक स्पीच के बाद पूरी कांग्रेस को सफाई देने के लिए सामने आने पड़ता ही है. इस बार भी राहुल गांधी छात्रों से संवाद करते हुए कुछ ऐसी बातें कह दी जिसके बाद कांग्रेस के नेताओं को जवाब देने नही बन रहा है.

Source

विदेशी सरजमीं पर पहुंचे राहुल गांधी ने सरकार को घटिया बताने में कोई कसर नही छोड़ी. देश में हो रही किसी भी गतिविधी पर देश में ही उसका विरोध और उसपर विचार आदि करना चाहिए लेकिन राहुल गांधी ने विदेशी धरती से भारत को नीचा दिखाने में पीछे नही हटे .सकरार में बैठी बीजेपी ने इसका विरोध किया है. सरकार की तरफ से स्मृति इरानी ने कांग्रेस के उपाध्यक्ष के सवालों और विचारों का जवाब देने के लिए सामने आईं और चुन-चुन कर एक-एक सवाल का जवाब दिया.

Source

आपको बता दें कि राहुल गांधी ने कहा कि हमारे यहाँ परिवारवादी ही सबकुछ चलाते हैं. इसका जवाब देते हुए स्मृति  इरानी ने इसके जवाब में कहा कि राहुल गांधी शायद भूल गये कि आजाद हिन्दुस्तान में कई ऐसे नागरिक है जो हिन्दुस्तान की तरक्की में साथ देते रहे है जिनका राजनीति से दूर दूर तक कोई लेना देना नही होता है. प्रधानमंत्री एक सामान्य परिवार से आते हैं.भारत के राष्ट्रपति एक दलित परिवार से ताल्लुक रखते हैं, उपराष्ट्रपति एक किसान परिवार से आते है.

इसमें सबसे गौर करने वाली बात तो यह है कि ऐसा पहली बार हुआ है कि कोई यह मानने को तैयार हुआ कि कांग्रेस पार्टी घमंडी हो गयी थी. उन्होंने 2012 का जिक्र करते हुए कहा कि उस समय हमारी पार्टी में घमंड आ गया था. यह पहली बार हुआ है जब कोई कांग्रेस का नेता ही विदेश में जाकर कांग्रेस के अध्यक्षता के उपर घमंड होने की बात कही. आपको बता दें कि 2012 में कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ही थी जोकि राहुल गांधी की माँ हैं. इसको लेकर भी स्मृति इरानी ने जमकर तंज कसा. आप वीडियो में देख सकते है किस तरह स्मृति इरानी ने राहुल गांधी के हर एक बात का सटीक जवाब दिया.

Comments

comments